Fir Mosam brsa,

fir Mosam brsa,
fir aasman saaf hua..
fir dil dhadka..
fir kuch ehsas hua..

lga jb aisa
tb koi na Pass hua..

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Hello!

2 Comments

  1. Sarita Ghanghas - July 2, 2015, 4:27 pm

    wht i hav to think?

  2. Anjali Gupta - October 8, 2015, 12:56 am

    nice

Leave a Reply