Kagaj K panno me

Kagaji panno me zinda h ishq mera..
.
wrna tumne to ise marne me koi kasak nhi chodiiii

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Hello!

1 Comment

  1. Amit - July 2, 2015, 4:17 pm

    Nice poetry Sarita 🙂

Leave a Reply