ek Muddat k baad

Ek muddat k baad
tumse aajadi mili h.
ab bs muskura lene do,
ro to pehle b chuki bhut…

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Hello!

1 Comment

  1. Sulabh Jaiswal - June 29, 2015, 11:51 am

    choti magar bahut achi poem!

Leave a Reply