ब्लकबोर्ड

‘ब्लैकबोर्ड’ जैसा तुम्हारा दिल,
काले पत्थर सा सख्त ,
पर अन्दर से साफ है ।।

‘चॉक’ से तुम्हारे सुन्दर विचार,
इजहार करो,
अन्दर रखना पाप है ।।

कुछ गलत मानो हो भी जाए,
तो डरने की क्या बात है ।।

एक तो तेरे अपने है तेरे साथ,
दुजा ‘डस्टर’ तेरे हाथ है ।।

जहमत ही तो है उठानी,
है वही सख्ती, है वही कालापन,
पर ‘ब्लैकबोर्ड’ एक पल मे साफ है ।।
~ सचिन सनसनवाल

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

अब जितने भी अल्फाज है , मेरी कलम ही मेरे साथ है |

Leave a Reply