।।जुर्रत।।

दर्द इतना है कि कराह रहा हूँ ।
जतन खूब किए मगर हार रहा हूँ ।
गम करना था अपने हालातों पर मुझे ।
मगर मेरी जुर्रत तो देखो, मुस्कुरा रहा हूँ ।।

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

1 Comment

  1. ashmita - June 16, 2019, 11:29 pm

    bahut khoob

Leave a Reply