एक और इंतजार

एक और इंतजार

सर्दियों के दिन कितने मासूम से दिखते हैं
छोटे बच्चे की तरह ऊनी कपडे में लिपटे हुए
तुम्हारे आने के दिन थे वो
मैं देर तक पटरियों पर बैठे
इंतज़ार सेंका करती
रेल को सब रास्ते याद रहते
एक मेरे पते के सिवा
सूरज डूबता पर तुम्हारा इंतज़ार नहीं

मैं बैठी रहती
चाँद को गोद में लिए हुए
तुम चुपके से नींद में आते
फिर धुंध पर पाँव रख कर लौट जाते
एक और इंतजार मेरे नाम लिखकर

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

I am happy person I just love to listen and write poetry.

Leave a Reply