आया नया साल

आया नया साल ।
जीवन मेँ लायेँगे बहार,
मन मेँ गायेँगे मलहार,
दिल मेँ उमंग की करेँगे पुकार,
आया नया साल।

सपनोँ को करेँगे साकार,
समय को नहीं जाने देँगे बेकार,
संकट के सवालों का जवाब देँगे जोरदार,
आया नया साल ।

होंसलो की भरेँगे हुंकार,
हक के लिए लङेगे मगर नही करेँगे हाहाकार,
हमारे जोश की होगी जय-जयकार,
आया नया साल ।

बूराईयों का करेँगे उपचार,
अचछाईयों को नही होने देँगे बीमार,
तभी तो सफलता आने से नही करगी इनकार,
आया नया साल ।

नयी-नयी जानकारियों को जानेँगे बनेँगे जानकार,
कलाकारी से करेँगे काम बनेँगे कलाकार,
तभी तो मन में बजेगी मुरली की झनकार,
आया नया साल ।

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

2 Comments

  1. ashmita - December 24, 2018, 7:32 pm

    bahut sundar

Leave a Reply