जैसे जैसे मकर संक्रांति के दिन करीब आते हैं

जैसे जैसे मकर संक्रांति के दिन करीब आते हैं
उत्सव का माहौल हवा में भर जाता है
इतने ध्यान से तैयार किया गया कागज
धागे के साथ पतंग बन उड़ जाता है

ये कागज की पतंगें बहुत आनंद देती हैं
नीले पैमाने पर, एकमात्र खिलौना
ये सबको मंत्रमुग्ध कर देती हैं|

हज़ारो पतंगे आसमान को भर देती हैं
कीमती हीरो की तरह कई आकारो में
सभी आँखें को आकाश की ओर मोड़ देती हैं

युद्ध की शुरुआत पतंगों के टकराने से होती है
पतंग काटने के लिए हम गुटों में बंट जाते है
नियमों को हम सभी का पालन करते हैं
मगर फिर भी आसमान नहीं बँटता!

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

In One Word.....Butterfly!

2 Comments

  1. देवेश साखरे 'देव' - January 16, 2019, 5:50 pm

    सुंदर रचना

  2. राही अंजाना - January 17, 2019, 3:23 pm

    Bdhiya

Leave a Reply