SHAYARI

तेरी देहलीज टपने खातिर काफी दिनों से कुछ किया ही नहीं।

ऐसा लगा मानो  जिंदा रहके भी इस दौरान  मैं जिया ही नहीं।

Previous Poem
Next Poem
Spread the love

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Related Posts

तेरे न होने का वज़ूद

SHAYARI

The Candle and The Moth

To Love in Chains

1 Comment

  1. JYOTI BHARTI - March 16, 2017, 8:41 pm

    👌

Leave a Reply