Poems

मुक्तक  21

मुक्तक 21

बड़ी सिद्दत से चाहा था ख़ुदा के नूर को मैंने ,

मेरी नीयत भी पाकीज़ा थी मगर इकरार ही न हुआ..

…atr

मुक्तक  20

मुक्तक 20

जिस अकल्पित प्रेम का संवाह मैं करता रहा,

आज जाना स्वप्न की बस्ती कहीं और है..

….atr

गीत कहूँ कैसे अब मैं.

गीत कहूँ कैसे अब मैं.

गीत लिखूँ कैसे अब मैं, गीत कहूँ कैसे अब मैं.

सब शब्द तुम्हारे प्रेमी है,हर कविता तेरी दासी है,

हर वाक्य तुम्हारा वर्णन है, हर हर्फ़ तेरा अभिलाषी है,

फिर इन दीवाने लोगो को अब कहु, गढ़ूं   कैसे अब मैं,

गीत लिखूँ कैसे अब मैं, गीत कहूँ कैसे अब मैं.

 

जो सृजन तुम्हारा दीवाना ,है दूर बहुत जाता मुझसे,

उत्पत्ति मुग्ध है अब तुम पर , है नाता तोड़ चुकी मुझसे ,

फिर इन परदेशी लोगो को , सुनूँ , कहूँ कैसे अब मैं.

गीत लिखूँ कैसे अब मैं, गीत कहूँ कैसे अब मैं.

 

जिन कल्पित भावो से नूतन, नव प्रेम कथा मैं गढ़ता था,

जिन अश्रुधराओं से प्रेरित हो, ग़ज़ल मैं लिखता था,

वो भाव गए सब तेरे संग, कहो , लिखूँ कैसे अब मैं..

गीत लिखूँ कैसे अब मैं, गीत कहूँ कैसे अब मैं.

…atr

 

मुक्तक 19

चलो अब देर से तुम सो सकोगे ,

हमारी नींद तुमको लग गयी है..

…atr

मुक्तक 18

बढ़ी है तीरगी रूश्वाईयों  में  ,

ज़रा अपनी नज़र तुम बंद रखना..

…atr

Page 926 of 951«924925926927928»