Poems

“अक्स” #Liner-12

वो मुझमें बस गया है ‘साहब’, आईने में “अक्स” की मानिन्द;
.
ღღ___नज़र के सामने होकर भी, अक्सर सामने नहीं होता !!…….‪#‎अक्स‬

” कश्ती – ए – मोहब्त “

दिल जब कश्ती – ए – मोहब्त पर सवार होता हैँ…..

तब उनसे मुलाकात करने को दिल बेक़रार होता है….

दीदार कर उस अप्सरा का , मैंने भी मान लिया …

” एक नज़र में भी प्यार होता हैं ”

 

पंकजोम ” प्रेम “

उसके चेहरे से नजर हे कि हटती नहीं..

उसके चेहरे से नजर हे कि हटती नहीं

वो जो मिल जाये अगर चहकती कहीं

 

जिन्दगी मायूस थी आज वो महका गयी

जेसे गुलशन में कोई कली खिलती कहीं

 

वो जो हंसी जब नजरे मेरी बहकने लगी

मन की मोम आज क्यों पिगलती गयी

 

महकने लगा समां चांदनी खिलने लगी

छुपने लगा चाँद क्यों आज अम्बर में कहीं

 

भूल निगाओं की जो आज उनसे टकरा गयी

वो बारिस बनकर मुझ पे बरसती गयी

 

कुछ बोलना ना चाहते थे मगर ये दिल बोल उठा

धीरे- धीरे मधुमयी महफिल जमती गयी

 

आँखों का नूर करता मजबूर मेरी निगाहों को

दिल के दर्पण पर उसकी तस्वीर बनती गयी

 

सदियों से बंद किये बेठे थे इस दिल को

मगर चुपके से वो इस दिल में उतरती गयी

 

तिल तिल जलता हे दिल मगर दुंहा हे कि उठती नहीं

परवाना बनकर बेठे हे शमां हे की जलती नहीं

 

हो गयी क़यामत वो जो सामने आ गयी

दर्द ऐ दिल से गजल आज क्यों निकलती गयी

 

थोडा सा शरमाकर, हल्के से मुस्कुराकर झुकी जो नजर

नज़रे-नूर-ओ-रोशनी में मेरी रंगे-रूह हल्के से घुलती गयी

लफ़्जों में ढ़लने लगी है जिंदगी मेरी

कोई अपना था जो खो गया
जिंदगी में जो पास था
जो दूर हो गया
यादों के सहारे रह गयी है जिंदगी मेरी
लफ़्जों में ढ़लने लगी है जिंदगी मेरी

नदी को अकेले चलने का गम सताता है

नदी को भी अकेले चलने का गम सताता है….
इसलिए सागर से मिलकर वह खुशी में बदल जाता है ….

Page 779 of 873«777778779780781»