Poems

आँखें तो बस देखती रही

आँखें तो बस देखती रही
ज़िंदगी के आवागमन को
राजेश’अरमान’

याद-ए-बचप्न

यादबचप्न

दिल को मुसकराती है

यादमेह्बूब

खूनअश्क रूलाती है

ख़ुदा

मेरा यार लौटा दे

या अगले बचपन में पहूँचा दे

 

                                              ..….  यूई

कोई पुल ऐसा भी होता

कोई पुल ऐसा भी होता
जिस पर चलते सिर्फ तुम
राजेश’अरमान’

मर गई आत्मा

मर गई आत्मा ,शरीर कहने को ज़िंदा है
पंछी मन का उड़ गया ,आँखों में परिंदा है
राजेश’अरमान’

मैं खामोश

                       उदास लम्हों की गहराईयों में

                       मैं खामोश

                       महफिलो की रंगीनीयों में

                       मैं खामोश

                       यह खामोशी ही अब

                       यूई की पहचान है

…….यूई

Page 779 of 959«777778779780781»