Poems

ख्वाब – 12

ख्वाब तो फिर ख्वाब है

एक उमर उनकी है तयशुदा

टूटते कितने है हर रोज़ यहां

जमते भी हैँ कितने रोज़ यहां

                                 …… यूई

ख्वाब – 11

ख्वाब चुनते है अकसर हर तस्वीर अधूरी

हो हर तस्वीर पूरी यह कतय नही ज़रूरी

ख्वाहिश-ए-दिल तेरे की क्या मर्ज़ीया यहा

पढ़ सकता है तो पढ़ टूटी सी तस्वीर अधूरी

                                                        …… यूई

ख्वाब – 10

वोह दिन के हो या रात के

वोह ख़ुद के हो या मीत के

ख्वाब तो आख़िर ख्वाब हैँ

ख्वाबों को ख्वाब ही रह ने दो

ना डालो इनमें अरमान भींच के

                                …… यूई

ख्वाब – 9

नए ख्वाबों का आना भी ज़रुरी है

पुराने ख्वाबों का जाना भी ज़रुरी है

है इनक़ी फि़तरत कुछ हमारी मानिंद

नये के लिए पुराने का जाना भी ज़रुरी है 

                                           …… यूई

ख्वाब – 8

ख्वाब भी है कुछ हमारे ही जैसे

चाहे दिखते हैँ बाहर से इक जैसे

उम्र यहां किसी की पूरी किसी की अधूरी

उम्र ख्वाबों की भी कभी पूरी कभी अधूरी

                                            …… यूई

Page 779 of 1073«777778779780781»