Poems

मुक्तक

मुक्तक

पास हो कर भी जरा सा दूर हो तुम!
हुस्न पर अपने बहुत मगरूर हो तुम!
तेज हैं तलवार सी तेरी निगाहें,
बेवफाओं में मगर मशहूर हो तुम!

मुक्तककार – #मिथिलेश_राय

मुक्तक

मुक्तक

जब से लबों पे आया है तेरा नाम फिर से!
जैसे लबों पे आया है कोई जाम फिर से!
तेरी याद बंध गयी है साँसों की डोर से,
मुझको तरसाती हुई आयी है शाम फिर से!

मुक्तककार- #मिथिलेश_राय

मुक्तक

मुक्तक

तेरे सिवा दिल में कोई आता नहीं कभी!
तेरे सिवा दिल को कोई भाता नहीं कभी!
मुझे मंजिल मिल न पायी तकदीर से लेकिन,
सिलसिला तेरी यादों का जाता नहीं कभी!

मुक्तककार- #मिथिलेश_राय

dahej ek chori

Ye sansaar nahi choro
ka ek baajar h
Dahej ladki ko gira
Dene vala ek hathiyar h
Dena padega Hume apni
Ladki ki shadi me dahej
Or magege ladke ki shadi me
Chandi ki kursi or sone ki mej
Yahi soch le kar kuch log
Aage badh rage h
Na jaane phir bhi khud par
Kyu itna akad rahe h
Kya itna b inko nahi
Aa rha hai samaj
Ki is soch se ladkiyon
Ki jindgi gyi h ulajh
Khud ki jarurat ka bhi
Dekho maang rahe saman
Phir ye kahte h ladki h
Abhisaap, ladka h vardaan
ROK do is soch ko
Na ise prampra ka naam do
Band karo ye chori aur
Ladkiyon ko unka samman do

dahej ek chori

»

Page 3 of 95912345»