Poems

ग्रीष्म ऋतु

ग्रीष्म ऋतु की खड़ी दोपहरी,

सुबह से लेकर शाम की प्रहरी,

सूरज की प्रचंड किरणें,

धरती को तपा रहीं हैं,

फसलों को पका रहीं हैं ं,

गुलमोहर की शोभा निराली,

आम, लीची के बाग-बगीचे​,

खग-विहग हैं उनके पीछे,

माली काका गुलेल को ताने,

करते बागो की रखवाली,

कोयल की कूक सुहानी,

कानों में रस है घोलती,

गर्म हवाएंँ ,धूल और आँधी,

ग्रीष्म ऋतु की हैं  ं साथी,

ताल-तलैया सूख रहें हैं,

बारिश की बूंँदों की आस में,

जल वाष्प बनाकर आसमान को सौंप रहे हैं,

गोधुलि में जब सूरज काका,

अपनी ताप की गात ओढ़ कर,

घर को वापस चल देते,

चँदा मामा चाँदनी संग,

तारों से आकाश सजाते,

गर्म हवा ठंडी हो जाती,

शाम सुहानी ग्रीष्म ऋतु की,

सबके मन को है भाती,

हर मौसम का अपना रंग है,

अपने ढंग से सब हैं आते,

अपना-अपना मिजाज दिखाते,

जीवन में हर रंग है जरूरी,

हमें यह सीख दे जाते ।।

मुक्तक

जो साथ नहीं देते वे रूठ जाते हैं!
रास्तों में अक्सर हमसे छूट जाते हैं!
दूरियाँ बन जाती हैं दिलों के दरमियाँ,
हौसले भी जिन्दगी के टूट जाते हैं!

मुक्तककार- #महादेव’

काश!

कितना अच्छा होता कि
कोई वक़्त को टटोल सकता
झाँक सकता
उसके पिछले हिस्सों में
किस्सों में
कोई कमी ना रहती
सदा के लिए
शायद
अगर ऐसा हो सकता
या यूं कहो
कि बिखरी हुई तस्वीर को
फिर से
जोड़ पाना
मुमकिन हो सकता था
काश
हकीकत जैसी होती है
उसे ज्यों का त्यों
हरेक बयां कर पाता
उसे महसूस कर पाता
कम से कम
अपना पाता
क्यू्ं कई बार
ना चाहते हुए भी
वक़्त से इतना अागे आ जाते हैं
कि वापस जाना
मुमकिन नहीं होता
और अगर कोई
उसी राह पर चल रहा हो
तो क्यूं
उसे रोक नहीं पाते
मानो कि
सदियों से चली आ रही
परंपरा की बेड़ियां
हाथों और जुबां को जकड़े है
क्यूं हर बड़ी खुशी में
उस छोटी सी
सिकन का आना जरूरी है
गर जरूरी नहीं
तो क्यूं आती है वो
बार बार

साथी चल

********************

साथी चल कुछ कर दिखलाएँ

अमन- चैन के गीत सुनाएँ

शोषण, घुसखोरी, गद्दारी

अन्याय, अनाचार, भ्रष्टाचारी

गली-गली नफरत का जहर

द्वार-द्वार मच रहा कहर

मिलकर आओ दूर भगाएँ

साथी चल कुछ कर दिखलाएँ

**************************

»

मुक्तक

मैं भूला था कभी तेरे लिए जमाने को!
मैं भूला था कभी अपने आशियाने को!
भटक रहा हूँ जबसे गम के सन्नाटों में,
हर शाम ढूँढता हूँ जामे-पैमाने को!

मुक्तककार-#महादेव'(24)

Page 3 of 89512345»