Poems

मुक्तक

आरजू हालात की मोहताज नहीं होती है!
ख्वाहिशों में लफ्जों की आवाज नहीं होती है!
जब रोक देती है कदमों को तकदीरे-मंजिल,
हर आदमी की कोशिश आगाज नहीं होती है!

मुक्तककार- #मिथिलेश_राय

मुक्तक

मुक्तक

आरजू हालात की मोहताज नहीं होती है!
ख्वाहिशों में लफ्जों की आवाज नहीं होती है!
जब रोक देती है कदमों को तकदीरे-मंजिल,
हर आदमी की कोशिश आगाज नहीं होती है!

मुक्तककार- #मिथिलेश_राय

मुक्तक

मुक्तक

जब हमारा किसी से रिश्ता टूट जाता है!
प्यार का हाथों से गुलिस्ताँ छूट जाता है!
हम खोजते हैं मंजिलें वफाओं की लेकिन,
रास्तों में वक्त का फरिश्ता रूठ जाता है!

मुक्तककार- #मिथिलेश_राय

मुक्तक

मुक्तक

आज भी मुझको तेरा हसरत-ए-दीदार है!
आज भी मेरी नजर को तेरा इंतजार है!
जोड़ता रहता हूँ तेरी चाहतों की कड़ियाँ,
आज भी मुझको तमन्ना तेरी बार बार है!

मुक्तककार- #मिथिलेश_राय

यादें

»

Page 2 of 9511234»