Poems

मुझे फिर याद आये.

वो राह वो बस्ती, वो घर, वो गलियां ,

वो राह के कांटे  , वो फूल और कलियाँ ,

मुझे फिर याद आये..

वो दो दिलों की धड़कन ,वो दोपहर का साथ,

वो शाम का मौसम , हाथो में तेरा हाथ ,

मुझे फिर याद आये

वो बचपनों के खेल, वो प्यार में रुसवाई ,

वो हार में भी जीत , अब याद और तन्हाई,

मुझे फिर याद आये.

…atr

कवि कोई ऐसा गीत सुना

कवि कोई गीत सुना ऐसा ये जग दीवाना हो जाए,
कोई बंदा बैरागी बने, कोई मरदाना हो जाए!!

भाईचारे की डोरी से, बंधा हुआ हर गाँव मिले,
धुप में झुलसे मानव को, तरुवर की ठंडी छाँव मिले,
कोई गोकुल सा गाँव लगे, कोई बरसाना हो जाए,
कोई बंदा बैरागी बने, कोई मरदाना हो जाए!!

गीतों से सबको प्यार रहे, गीतों के रंग हज़ार रहे,
रामायण भगवत गीता से, झंकृत जीवन के तार रहे,
मानस में गूंजे गुरुवाणी अंतस ननकाना हो जाये,
कोई बंदा बैरागी बने, कोई मरदाना हो जाए!!

शब्दों का सहारा

ख्वाबो में भी अकेले होने पर जब बस शब्दों का सहारा होता हैं,, खुद की आधी-अधूरी सुनने पर भी जब मन छठपटा रहा होता हैं,, हालातों से बाहर आते ही जब ख्यालात नजर आ जाते हैं,, ह्रदय हारकर तन बिसराकर खुद वहाँ पहुँच तो जाते हैं,, फिर आसमान को समेटने की चाहत जब हाथ फैलाये रखती हैं,, खुद को महसूस करने खातिर जब स्वतः आँख बंद हो जाती हैं ,, तब हौले से एक कोयलिया स्वर ह्रदय-चीर मन बस जाती हैं,, आँखे खोली, कुछ नहीं पाया, पर दिल की कली-कली खिल जाती हैं,, तब मंद- मुसकाता सा एक चेहरा आँखों में बस जाता हैं,,, पास में ना होकर भी वो बस सामने नजर आ जाता हैं,,, कब होगा वो साथ में मेरे, दिमाग खुद सवालिया रहता हैं, दिल उसको समझाता हैं, झांक के देख वो मुझमे रहता हैं,, उसकी कल्पनाओ से परे तुझे अपने भविष्य की नीव रखनी हैं,, हासिल हो उसे भी मुक्कमल जहाँ,, ऐसी फरियाद तुझको करनी हैं,,

मुक्तक 22

चुपके चुपके ही चाहा है, इज़हार किया न जीवन भर ,

एक डर में एक संशय में, मैं हाल ए दिल कैसे  कह पाऊँ.

जीवन के अंतिम क्षण में यदि बात जुबां तक आ जाये,

बस उसी काल मैं तृप्त हुआ ,दुनिया को छोड़ चला जाऊं..

…atr

MNCs

The MNCs of today

Have made way

Into the Indian household

That everyone be told

Women working

At nights and still liking

Forgetting her house

Her unkept home

She’s out lose

Lost on the streets

Bent and lost in some ass work

That requires her to sit from morn till night

While she should be in her house

Running her own house

Caring for her family

Please welcome the MNCs of today

Who have this to say

To men like you and me

The Indian man, i.e.

MEN C YOUR WOMEN ARE DOING THE NIGHT JOBS FOR US

Thus say the MNCs from USA

 

 

Page 1386 of 1415«13841385138613871388»