Poems

मुक्तक 17

करोगे क़त्ल क्या हमको दरिंदो ,

हमारे हर्फ़ रूहानी, हमारी बात रूहानी..

…atr

मुक्तक 16

कभी मेरी निगाहों को जहाँ दिखता था तुझमे मीर ,

मगर अब दौर ऐसा है , खुदी पुरज़ोर हावी है ..

…atr

मुक्तक 15

कहीं है दफ़्न  तुम्हारा ग़म हमारे दिल के कोने में,

हमे भी मीर लाशो को बहुत रखना नहीं आता..

…atr

मुक्तक 14

अभी   मुझमे  जरा  तू  है ,जरा  मैं  हूँ तेरे  दिल  में ..

मगर  अब  अपने  अपने  में  जरा  सा  तू , जरा  मैं  हूँ ..

…atr

ए जीनेवाले सोच जरा….!

जीनेवाले सोच जरा….!

मरने के लिए जीते हैं सब,
फिर भी मर मर कर जीते हैं.
यहाँ कभी मन की प्यास बुझी,
प्यासे ही सब रह जाते हैं.

जीनेवाले सोच जरा,
ऐसा जीना क्या जीना है,
गर मर मर कर यूं जीना है,
तो जीकर भी क्या करना है.

जग जीवन के जन्जालों मे,
ना समझ सका ख़ुद को मानव,
चिंताओं व्यर्थ व्यथाओं की,
गाथाओं मे खोया मानव.

कुछ ऐसे दीवानेपन में,
मेरे भी जीवन मे इक दिन,
जागा जीवन का अर्थ नया,
जब किस्मत से अनजाने मे,
ख़ुद ’  को खोया,
सबकुछ पाया……….!

               विश्व नन्द.

 

Page 1339 of 1363«13371338133913401341»