Poems

लफ़्जों का खेल

लफ़्जों का खेल तो देखो
कभी हंसाते है, कभी रूलाते है

जिंदगी है कि गुजरती ही नहीं

दिन पे दिन गुजरते जा रहे है,
मगर जिंदगी है कि गुजरती ही नहीं

WO sitam karte-karte choor ho gye

WO sitam karte-karte choor ho gye
Hum sahte- sahte mashahoor ho gye

Lgg gyi hai aadat sahne ki hame
Ya apni aadat se wo mazboor ho gye

Her taraf jo aalam tha— kaise kahe
Apni zindgani se hum door ho gye

Kya samjhenge dard ko sitam karne wale
Zakhm aise nikale ki naasoor ho gye

Tamannao ki angrayi li thi ranjit dil ne bhi
Malik banne chalaa tha– mazdoor ho gye

“आखिरी ख्वाहिश” #2Liner-74

ღღ__चलो मिल ही लेते हैं “साहब”, फिर कभी न मिलने को;
.
यही ख्वाहिश बची है दिल में, इक आखिरी ख्वाहिश की तरह!!….‪#‎अक्स‬
.
12688160_178469925858371_6129127852261591800_n

तेरा सजदा – 117

तेरा सजदा – 117

         

कोई तेरी खुदाई में घुल, ख़ुद को खुदी भुलाई है

कोई अपनी खुदी में घुलतेरी खुदी भूलाई है       

                                                       

                                           …… यूई

Page 1071 of 1336«10691070107110721073»