Poems

नाम के उमर है उतनी

इस दुनिया में नाम के उमर है उतनी
जितनी इस जीवन में देह के जितनी

….. यूई

नाम की अपनी झूठी होड़ में

नाम की अपनी झूठी होड़ में
मिलेंगे पागल तुम्हे हर मोड़ पे

….. यूई

तेरे नाम की अब किसको है आशा

तेरे नाम की अब किसको है आशा
हर कोई है अपने ही नाम का प्यासा

….. यूई

ख़ुद के नाम में यूँ डूबी दुनिया

ख़ुद के नाम में यूँ डूबी दुनिया
उसके नाम को ही ले डूबी दुनिया

…… यूई

आख़िर में क्या कर पाओगे

रंजिशें कितनी भी निभा लो

दुश्मन कितने चाहो बना लो

दोस्त जितने चाहो गँवा लो

नशा है ही ऐसा दौलत का

इसे जितना चाहो बड़ा लो

होड़ जितनी चाहे ल्गा लो

सबको पीछे छोड़ दौड़ लगा लो

आख़िर में क्या कर पाओगे

कभी तो थक हार बैठ जाओगे

अकेले फिर ख़ुद में कुरलाओगे

तब सबको साथ अपने बुलाओगे

तब साथ कोई ना ढूँढ पाओगे

…… यूई

Page 1012 of 1364«10101011101210131014»