Poems

Mujhe apni yaadon me

Mujhe apni yaadon me

क्या हिम्मत रखता था तू

क्या हिम्मत रखता था तू
डरता था न मौत से,
ठान लिया जब जीतने की
सफलता मिली हर ओर से
तेरे रुतबे ने ही तो
कइयों को राजनीति से प्रेम कराया है,

अटल हमेशा अटल रहेगा
उसने हर दिल में नाम कमाया है।।

-मनीष

सचमुच तु “अटल” रहा

✍✍देखो देश को कैसे बचा लिया इसने ,
देश के खातिर साँसो से लोहा लिया इसने
झंडा झुके ना आजादी दिवस की
कैसे यमराज को टहला दिया इसने।
अटल तेरी गाथाये संसार मे गूँज रहा
सचमुच तु “अटल” रहा ।।✍✍

ज्योति

सरहद के मौसमों में जो बेरंगा हो जाता है

सरहद के मौसमों में जो बेरंगा हो जाता है,
तिरंगे से लिपट कर एक दिन वो तिरंगा हो जाता है।।
राही (अंजाना)

ये धरती है वीर बहादुर भगत राज गुरु लालों की

ये धरती है वीर बहादुर भगत राज गुरु लालों की

ये धरती है वीर बहादुर भगत राज गुरु लालों की,

आजादी की जंग में थे शामिल दीवाने दिलवालों की,

एक माँ से दूर रहकर एक माँ का आँचल रँगने वालों की,

हर मौसम में जो डटे रहे उन चौड़ी छाती वालों की,

सरहद पर बेरंग हुए जो तिरंगे की आन बचाने वालों की,

अंग्रेजी शासन से भारत को मुक्त करने वालों की,

ये धरती है माथे से माटी का तिलक लगाने वालों की,

अपने होंसले के आगे हिम पर्वत को बोना करने वालों की,

ये धरती है………..

राही (अंजाना)

Page 1 of 1323123»