दर–दर ठोकर खाया हूँ।

दर–दर ठोकर खाया हूँ,
जीवन से भी मै हारा हूँ।
दे–दे सहारा —-
तेरे पास मै आया हूँ।।
नही मंजिल मिली नही किनारा,मुझे दे–दे सहारा, मेरा कोई नही ठिकाना है!
मै हूँ बेसहारा–
मुझे दे– दे सहारा
कुछ भी इंसान हूँ,
दुनिया ने शिर्फ दी रूसवाई है,
तेरे दर पर सुना होती सुनवाई है।
एहसान करो मुझ पर मै दर दर ठोकर खा़या हूँ,
तेरी ये मतलबी दुनिया मुझे हराया है,
दर–दर ठोकर दिलवाया है।

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Leave a Reply