Nazm

” इंतज़ार ”

सोचा भी न था मैंने
वो मुलाक़ातें
मेरे ख़्वाबों का
मुक़द्दर बन जाएँगी
उसकी बातें, उसकी यादें
मुझे तड़पायेगी
उसके नाम
मेरी सांसों में
बस जायेगा
और __ हर रात
मेरे ख़्वाबों में आके
वो मुझसे पूछेगी
” यावर ”
कब _____आओगे __

_________यावर कफ़ील

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 
यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|
 
सावन का लक्ष्य है, कविता के लिए एक मंच स्थापित करना, जिस पर कविता का प्रचार व प्रसार किया जा सके और मानवता के संदेश को जन-जन तक पहुंचाया जा सके| यदि आप सावन की इस उद्देश्य में मदद करना चाहते है तो नीचे दिए विज्ञापन पर क्लिक करके हमारी आर्थिक मदद करें|

 

Leave a Reply