Naya saal

नये साल की पवन बेला पर पहुचे तुम्हे बधाई..
देश प्रेम है धर्म हमारा,हम सब हैं भाई भाई ..

मान और सम्मान बढे,जीवन हो श्रेष्ठ शिखर पर..
मानवता हो कर्म हमारा,हर जाती धर्म से बढ़कर..
भेद भाव और छुआ छूत का नाम ना हो वसुधा पर ..
हिन्दू मुसलिम सब साथ रहे, देश बढे उन्नति के पथ पर ..
आपस में हम गले मिले है रूत मिलने की आई ..

देश के कोने कोने में नारी को अब सम्मान मिले ..
हर बाला लक्ष्मी बाई हो, हर बेटी को शिक्षा ग्यान मिले.
हर जाति धर्म हर मानव को नित नुतन संयम ग्यान मिले ..
देश के हर वीर सिपाही को, सत से ज्यादा सम्मान मिले..

हर बला हो राधा जैसी, हर बच्चा हो कृष्ण कन्हाई ..

Surendra kumar

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

1 Comment

  1. राही अंजाना - December 29, 2017, 10:42 am

    बढ़िया सर।।
    क्रप्या मेरी नव वर्ष आने को है कविता को वोट करें।।

Leave a Reply