NAANKUN DERA BY VIRENDRA DEWANGAN

नानकुन डेरा

नानकुन डेरा , दू कोस के घेरा………. I

दिन गनवा जिनगी के , सपना लाख हजार
परगेस काबर फांदा म , जीयत तैं सरकार
मोर मोर गठियावय , असल परय बदरा
सुख्खा म बोहावय , बनके फोकट चतरा
कोठी डोली भर के कतको , मांगय रे छेरछेरा…….. I
नानकुन डेरा , दू कोस के घेरा………. I

धन तोरेच दौलत , तोरेच लागय सनसार
चुन चुन के केंवरी , जइसे राखय निमार
पुरगे ग जोरत पाई , पाई म दिन बछर
चुरगे जिवरा कमाई म , चलय न गतर
कब तक रहिबे हरियर , एकेच्च खाम के केरा…….. I
नानकुन डेरा , दू कोस के घेरा………. I

चिमटगे भगति अऊ , छछरगे रे मनौती
धरय काबर लइका कस , मुड़पेलवा रौती
बुचक जाही हाथ आये , सिरा जाही आस
धुनत तरवा रहि जाबे , अटकत रहि सांस
मौका रहत टेंड़ ले , राम के अमरित टेंड़ा……. I
नानकुन डेरा , दू कोस के घेरा………. I
BY VIRENDRA DEWANGAN , HATHOUD , DIST-BALOD , C.G.

**************

Previous Poem
Next Poem

सर्वश्रेष्ठ हिन्दी कहानी प्रतियोगिता


समयसीमा: 24 फ़रवरी (सन्ध्या 6 बजे)

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

3 Comments

  1. Virendra Dewangan - February 19, 2018, 12:41 pm

    THANKS ASHMITA JI

  2. Profile photo of ashmita

    ashmita - February 6, 2018, 11:50 pm

    गांव की मिट्टी की महक से भरपूर है प्र्त्येक पंक्ति

  3. Profile photo of Mohit Sharma

    Mohit Sharma - February 6, 2018, 12:46 pm

    Nice poem

Leave a Reply