Sukhbir Singh

  • Sukhbir Singh‘s profile was updated 1 month ago

    • I am Suvo Sarkar of Emirates NBD bank. I wish to share a business proposal with you, it is in connection with your last name. Please contact me on my email at (sarkarsuvo611@gmail.com) so that i will get back to you soonest.

  • आंखों की यह पलकें झपका के तो दिखा
    सच बताऊ यह भी ना कर पाएगा।

    उस परमात्मा के कारण ही तेरा वजूद है
    उसके बिना, मिट्टी में मिल जाएगा।

    यह पैसा, यह शरीर सब नाशवान हैं
    कुछ भी साथ ना जाएगा।

    मरने के बाद भी, कुछ लोगो की […]

  • Sukhbir Singh changed their profile picture 2 months, 2 weeks ago

    • I am Suvo Sarkar of Emirates NBD bank. I wish to share a business proposal with you, it is in connection with your last name. Please contact me on my email at (sarkarsuvo611@gmail.com) so that i will get back to you soonest.

  • कुछ ख्वाब जिन्दगी में
    हमेशा अधूरे रह जाते हैं।

    अरे दूसरों को क्या समझाऊ मैं,
    अपने ही समझ नहीं पाते हैं।

    अरे हमसे भी तो पूछ कर देखो,
    हम क्या चाहते हैं।

    “सुखबीर” जो अपने विचार प्रगट नहीं करते,
    वह जीते ही, मर जाते हैं।

  • सपने देखा करो ओह यारों
    सपने साकार भी होते हैं।

    आज हम जिस मंजिल पर हैं
    कईओ के ख़्वाब ही होते हैं।

    बैठे बिठाए नहीं मिलती मंजिल
    मेहनत करने वाले ही कामयाब होते हैं।

    उनके सपने सिर्फ सपने ही रहेंगे
    जो सपनों के नाम पर सोते हैं।

  • Sukhbir Singh posted a new activity comment 4 months ago

    Thanks ji

  • जब अपनों ने ही लूट लिया
    क्या शिकवा करूँ मैं ओरो पर।

    बाहर से प्यार जताते थे
    अंदर से नफ़रत जोरों पर।

    अरे मिल कर बात सुलझा लेते
    ना आती दरार इन रिश्तों पर।

    अरे कौन सी दुश्मनी निकालते हो
    सच बताओं तुम इन किश्तों पर।

  • A Human Can’t fulfill his all Dreams.
    In his Life, He always have some Dreams.
    He work hard for fulfill these wishes.
    And he has succeed to fulfill his dreams
    But In Every Success,
    His wishes have also i […]

  • एक बार मैं गरीबी से तंग आकर

    ऐसा सोचने लगा

    कुछ नहीं दिया भगवान तूने मुझे

    ऐसा कहकर उसे कोसने लगा

    फिर दूसरी और नजर गुमाई

    मैने दो व्यक्तियो को देखा

    एक के पास आंखे नहीं थी

    और के पास टाँगे नहीं थी

    वह दर दर ज […]

  • ਮਾਂ ਦਾ ਦਰਦ

    ਉਮਰ ਬੀਤ ਗਈ ਪੁੱਤਰਾਂ
    ਤੈਨੂੰ ਉਡੀਕਦੇ ਉਡੀਕਦੇ
    ਕਦ ਪੁੱਤਰ ਤੂੰ ਆਵੇਂਗਾ
    ਹੁਣ ਤਾਂ ਇਹ ਸਾਹ ਵੀ
    ਥੋੜੇ ਦਿਸ ਦੇ ਨੇ
    ਦਸ ਤੂੰ ਕਦ ਮਿਲ ਪਾਵੇਂਗਾ

    ਪੈਸਿਆਂ ਵਿੱਚ ਤੂੰ ਅੱਜ ਇੰਨਾ ਰੁੱਝ ਗਿਆ
    ਕੀ ਆਪਣੇ ਮਾਪਿਆਂ ਨੂੰ ਹੀ ਭੁੱਲ ਗਿਆ

    ਰੋਜ ਤੱਕਦੀ ਹਾਂ ਬੂਹਾ
    ਆਸ ਮਨ ਵਿੱਚ ਰੱਖ ਕੇ
    ਕੀ ਅੱਜ ਮੇਰਾ ਪੁੱਤਰ ਆਵੇਗਾ
    ਉਮਰ ਬੀਤ ਗਈ ਪੁੱਤਰਾਂ
    ਤੈਨੂੰ ਉਡੀਕਦੇ ਉਡੀਕਦੇ
    ਕਦ ਪੁੱਤਰ ਤੂੰ ਆਵੇਂਗਾ…

    ਬਚਪਣ ਵਿੱਚ…[Read more]

  • Load More