Mithilesh Rai

Friends

  • active 4 days, 18 hours ago
  • Shakun Saxena - "कभी यूँ भी आ मेरे ख़्वाबों में के मुझे खबर ही न हो, मैं सोता रहूँ रात भर और सहर ही न हो। कभी दिन की कड़ी धूम कभी साँझ की छाया में बैठा रहूँ, तू किसी साये सी मेरे साथ रहे और मेरा इंतज़ार खत्म न हो। तू छुप […]"View
    active 2 weeks ago
  • Profile picture of सीमा राठी
    सीमा राठी - "Feeling blessed"View
    active 2 weeks, 1 day ago
  • Profile picture of Dev Kumar
    active 2 weeks, 1 day ago
  • Profile picture of Neetika sarsar
    active 3 weeks ago
  • Profile picture of Anirudh sethi
    Anirudh sethi - "दिलो के गम छुपाये नहीं छुपते कभी अश्कों में, कभी लफ़्जों में निकल आते है वक्त बे वक्त और छोड़ जाते है निशानी खारी खारी सी, काली नीली सी"View
    active 3 weeks ago
  • Profile picture of Panna
    Panna - "न उस रात चांदनी होती न वो चांद सा चेहरा दिखता न मासूम मोहब्बत होती न नादान दिला ताउम्र तडपता"View
    active 3 weeks, 1 day ago
  • Profile picture of Nitesh Chaurasia
    active 4 weeks ago
  • Profile picture of ओमप्रकाश चंदेल
    active 4 weeks, 1 day ago
  • active 1 month ago
  • Profile picture of Kumar Bunty
    active 1 month ago
  • Profile picture of Chavi Jain
    active 1 month, 2 weeks ago
  • Profile picture of Ritu Soni
    Ritu Soni - "@panna http://saavan.in/?p=17053 Please like my poem"View
    active 1 month, 3 weeks ago
  • active 1 month, 3 weeks ago
  • active 1 month, 3 weeks ago
  • Profile picture of Anupam Tripathi
    Anupam Tripathi - "Thanks kiranji"View
    active 1 month, 4 weeks ago
  • Profile picture of Sukhbir Singh
    Sukhbir Singh - "जब अपनों ने ही लूट लिया क्या शिकवा करूँ मैं ओरो पर। बाहर से प्यार जताते थे अंदर से नफ़रत जोरों पर। अरे मिल कर बात सुलझा लेते ना आती दरार इन रिश्तों पर। अरे कौन सी दुश्मनी निकालते हो सच बताओं तुम इन किश्तों पर।"View
    active 2 months, 1 week ago
  • Profile picture of Sridhar
    active 2 months, 2 weeks ago
  • Profile picture of Ramesh Singh
    active 2 months, 3 weeks ago
  • Manisha Nema - "..मेरे पापा.. अम्बर नीला है, मेरे कदमों के नीचे का फर्श गीला है; पर मुझे क्या गिला है, मुझे तो मेरे पापा का साथ मिला है !!!! ……..सर के ऊपर छत रखी, ……..और छत पर आसमान; ……..बाहें फैला कर उड़ जाऊं मैं […]"View
    active 3 months ago