Activity

  • Mithilesh Rai posted an update in the group Group logo of हिंदी कवितायेंहिंदी कवितायें 3 months ago

    मंजिलों के रास्ते कुछ बोल रहे हैं!
    अश्क में ख्वाबों को कुछ घोल रहे हैं!
    खुल रही हैं सिलवटें अफ़सानों की,
    कदम फिर यादों के कुछ डोल रहे हैं!

    मुक्तककार-#महादेव’