Elina

  • रहता है कहाँ है कहाँ घर तेरा,

    नाम आंसु से परिचय हुआ क्यों तेरा,

    ख़ुशी-ग़म का आँखों से रिश्ता तेरा,

    हर इंसा से नाता जुड़ा क्यों तेरा,

    समझ के रंग सा न किसी अंग सा,

    यूँ रूप पानी के जैसा बना क्यों ते […]