Arun

  • सिर्फ एक तसवीर है , एक चेहरा है
    जानता नहीं हूँ कि कौन थी वो ,
    पर आँखों में नूर देख यकीन से कहता हूँ
    कि जो भी थी , जैसी भी थी अच्छी थी वो ,
    गैरों के हाथ पकड़ साथ चल पड़ी
    रूह से पाक दिल से सच्ची थी वो , […]

  • मत पूछो कि क्या हसरत है मेरी ,

    हसरतें जताऊँ यह ना फ़ितरत है मेरी ,

    जताने से मिल जाये मुझे चाहत जो मेरी ,

    खुदी को जानता हूँ यह ना किस्मत है मेरी।

    मत पूछो कि क्या हसरत है मेरी …

    To read full poem kin […]