Love poetry

Jee Bhar Ke Dekhoon Tjhe Agar Tjhko Gawara Ho,
Betab Meri Nazrein Or Pyar Tumhara Ho,
Jaan Ki Fikar Ho Na Zamaney Ki Parwa,
Ek Tera pyar Ho Jo Sirf Humara Ho….

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

2 Comments

  1. देव कुमार - June 19, 2018, 10:48 pm

    Nice

  2. राही अंजाना - July 10, 2018, 11:45 pm

    Waah

Leave a Reply