एक संवाद तिरंगे के साथ।

जब घर का परायों का संगी हुआ।

क्रोधित तेरा शीश नारंगी हुआ।

ये नारंगी नासमझी करवा न दे।

गद्दारों की गर्दने कटवा न दे।।

साँझ को अम्बर जब श्वेत हुआ।

देख लेहराते लंगड़ा उत्साहित हुआ।।

श्वेताम्बर गुस्ताखी करवा न दे।

मेरे हाथों ये तलवारें चलवा न दे।।

तल पे हरियाली यूँ बिखरी पड़ी।

खस्ता खंडहरों में इमारत गड़ी।।

ये हरियाली मनमानी करवा न दे।

गुलमटों को अपने में गड़वा न दे।।

तेरा लहराना मुसलसल कमाल ही है।

तेरी भक्ति करूँ क्यूँ?निरुत्तर सवाल ही है।।

तेरी लहरें मेरे रक्त को लहरा न दें।

कहीं हर तराने में तुझे हम लहरा न दें।।

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Related Posts

सरहद के मौसमों में जो बेरंगा हो जाता है

आजादी

मैं अमन पसंद हूँ

So jaunga khi m aik din…

3 Comments

  1. Kavi Manohar - July 17, 2016, 12:58 pm

    Nice

  2. anupriya sharma - July 17, 2016, 1:00 pm

    Patriotic feelings!!!!

  3. Sridhar - July 18, 2016, 7:02 am

    Behtareen …

Leave a Reply