तेरे ही आसपास कल्पना कवि की है,…..! (गीत)

तेरे ही आसपास कल्पना कवि की है,…..! (गीत)

तेरे ही आसपास कल्पना कवि की है,
कल्पना कवि की है, वंचना कवि की है,
वंचना कवि की है, वंदना कवि की है ……..!

तू स्फूर्ति है कवि की, प्रणयमूर्ती तू ही है,
तू ही कमी कवि की, और तू ही पूर्ति है
तेरे ही आसपास कल्पना कवि की है……!

कितने कवि जगाये तूने, उच्चपद चढा दिए,
कितने कवि बनाए, जो कि बन के व्यर्थ हो गए,
तू ही उदय कवि का, और तू ही अस्त है ….!

तूने खिलाये फूल ही जो कविह्रदय मे खिल रहे,
तूने कभी यही चमन उजाड़ दिया है,
तू आस है कवि की, और तू ही प्यास है,
तू ख़त्म हो सके न ऐसा उपन्यास है….!

तू मित्र है कवि की और तू ही शत्रू है,
तू वफ़ा बेवफाई का संगम पवित्र है,
तेरे ही आसपास कल्पना कवि की है……!

ये कवि का गीत है, और ये नारी का रूप है,
ये कवि का रूप है और ये नारी का गीत है,
भगवन ने जो रची है, कविता, तू ही तो है…!

तेरे ही आसपास कल्पना कवि की है,
कल्पना कवि की है, वंचना कवि की है,
वंचना कवि की है, वंदना कवि की है ……..!

तेरे ही आसपास कल्पना कवि की है ….!

” विश्वनन्द “

 

 

 

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Retired Senior Engg Exec. Interest in poetry, songs, music. Composes & sings his own poems/songs as hobby/passion. Plays Harmonium. Location: Pune, Mumbai

4 Comments

  1. Rohan Sharma - April 29, 2016, 10:11 am

    Nice

  2. Panna - April 29, 2016, 8:31 pm

    bahut sundar Geet 🙂

Leave a Reply