#मां

” वो तपते तवे पे भूक जला रही थी”

“मां को चार रोटी की भूक थी, पर वो एक ही खा रही थी”
~शाबीर

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

1 Comment

  1. सीमा राठी - March 30, 2017, 9:17 am

    nice

Leave a Reply