रिश्तों का सम्मान

भांप गया सत्य बात ,जो मानता नहीं
सच कहे ‘मंगल ‘देश में,दुश्मन बड़ा वही !
भूख – प्यास जकड़न भल ,भरमता कहा सही
पूजी मिली प्यार की ,ठुकराता चला कहीं |
सम्मान रिश्तों का नहीं ,उड़ान आकाशे बही
पास फेसबुक साथ लिए ,हताश जिंदगी रही !
मंगल रिश्तों का सम्मान ,निभाया जिसने नहीं
रचनात्मकता फीकी पड़ी,वह टिकता नहीं कही|| -SUKHMANGAL SINGH “

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

3 Comments

  1. ashmita - February 28, 2019, 12:08 am

    nice

  2. राही अंजाना - February 28, 2019, 2:08 pm

    वाह

  3. Mithilesh Rai - March 4, 2019, 9:58 pm

    उम्दा

Leave a Reply