तेरी यादों के कागज को

तेरी यादों के कागज को

तेरी यादों के कागज को ,

  छुपा रखा है ,

  अपनी पलकों से थोड़ा पीछे ,

  कहीँ सालों से बह्ते आँसू ,

  इनको गीला कर ,

  धुँधला ना कर दे I

                                  …… यूई

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Poet, Film Screenplay Writer, Storyteller, Song Lyricist, Fiction Writer, Painter - Oil On Canvas, Management Writer, Engineer

Related Posts

क्यों इतने दुःख सह्ता तूं

कैसे तेरी पहचान करूँ ?

क्या मैं तेरे जैसा नही

तू सबके दुःख हर जाता है

1 Comment

  1. Panna - February 4, 2016, 12:10 pm

    umda!…behatreen

Leave a Reply