गम-ए-इशक

गम-ए-इशक

गमइशक में डूब कोई

       मरीजमोहब्बत ना बच पाया

रफ्ता रफ्ता सरकती मौत देखी

       यूई ना मर पाया ना जी पाया                            

                                                   …… यूई

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Poet, Film Screenplay Writer, Storyteller, Song Lyricist, Fiction Writer, Painter - Oil On Canvas, Management Writer, Engineer

Related Posts

क्यों इतने दुःख सह्ता तूं

कैसे तेरी पहचान करूँ ?

क्या मैं तेरे जैसा नही

तू सबके दुःख हर जाता है

2 Comments

  1. Panna - February 4, 2016, 11:49 pm

    रफ्ता रफ्ता सरकती मौत ….very nice sir!

  2. Rohan Sharma - February 5, 2016, 6:37 pm

    Good One!

Leave a Reply