पलकें

मेरी आँखों की पलकों पर तेरी यादें बसती हैं,
इस डर से इनको झपकाने से डरता हूँ मैं।।
राही (अंजाना)

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

2 Comments

  1. Neha - July 29, 2018, 5:33 pm

    Waah

Leave a Reply