एक यादृच्छिक विचार

तुम गणनों में जीते हो, हम गणों में जीते हैं।
तुम सिफ़र में जीते हो, हम सफ़र में जीते हैं।

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

3 Comments

  1. Devesh Sakhare 'Dev' - December 25, 2018, 2:44 pm

    सुंदर पंक्तियां

  2. Anjali Gupta - December 25, 2018, 5:06 pm

    sabdo ka acha prayog

  3. ashmita - December 30, 2018, 7:12 pm

    nice

Leave a Reply