इश्क- विश्क से दुर रहो!!

मन को समझाया था मैने..इस इश्क विश्क से दूर रहो
पर ये मन,मन ही मन मै अपनी मन मानी कर बैठा____!!!!

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

1 Comment

Leave a Reply