दर्द

फिर बेवा आँखे रोईं हैं
कोई ख्वाब जरूर जला होंगा ।।
#चाँदनी

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

4 Comments

  1. Poonam singh - April 13, 2019, 11:40 am

    Nice

  2. देवेश साखरे 'देव' - April 14, 2019, 12:17 am

    बहुत बढ़िया

Leave a Reply