वो प्यार

वो प्यार कर रही थी
अपने लबों से मेरे होंठों पर इजहार कर रही थी
मुझसे कभी रुखसत न होना
ऐसे वादे हजार कर रही थी
……………………..
अनूप हसनपुरी

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

3 Comments

  1. Alok Kumar - June 7, 2016, 9:39 pm

    behatreen

  2. Megha Trivedi - June 7, 2016, 9:49 pm

    waah

  3. देव कुमार - June 8, 2016, 12:21 pm

    so nice

Leave a Reply