दर्द के हर एक कतरे को

दर्द के हर एक कतरे को सहेज कर रखती हूं मैं
कब जाने कौन सा कतरा तुम्हे मेरे करीब ले आये

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

In One Word.....Butterfly!

2 Comments

  1. देवेश साखरे 'देव' - December 23, 2018, 6:59 pm

    सुंदर पंक्तियां

  2. Narendra Singh - December 24, 2018, 11:43 am

    सुन्दर

Leave a Reply