अंग

मुझसे मेरा ही एक अभिन्न अंग छीन लिया गया,
मानो दिल से धड़कन का ही संग छीन लिया गया,

हाथ मलता ही रहा देखकर कुछ कर न सका मैं,
बेगुनाह मेरी आँखों से उनका हर रंग छीन लिया गया।।

अंजाना राही

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

2 Comments

  1. Devesh Sakhare 'Dev' - December 25, 2018, 7:08 pm

    बहुत सुंदर

Leave a Reply