न दूध न रोटी के वो टुकड़े नज़र आते हैं

न दूध न रोटी के वो टुकड़े नज़र आते हैं

न दूध न रोटी के वो टुकड़े नज़र आते हैं,
मेरे शहर में पाव और पीज़ा के रगड़े नज़र आते हैं,
न मेरे गाँव की हवा न वो छप्पर छावँ नज़र आते है,
ऊँची मीनारों के नीचे दबे संस्कृति के पाँव नज़र आते हैं।। राही (अंजाना)

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

2 Comments

  1. ज्योति कुमार - August 12, 2018, 9:00 am

    Super

Leave a Reply