ख़्वाबों से बाहर निकल के देखते हैं

ख़्वाबों से बाहर निकल के देखते हैं

ख़्वाबों से बाहर निकल के देखते हैं,

चलो आज हकीकत से मिल के देखते हैं,

बहुत दिन हुए अब छुपाये खुद को,

चलो आज सबको रूबरू देखते हैं,

बड़ी भीड़ है जहाँ तलक नज़र जाती है,

चलो दूर कोई खाली शहर देखते हैं।।
– राही (अंजाना)

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

3 Comments

  1. Anshita Sahu - May 14, 2018, 8:14 am

    very nice

  2. Neha - May 15, 2018, 7:13 pm

    Nyc

Leave a Reply