सपनो के धुंदले बादलों के पार

सपनो के धुंदले बादलों के पार
एक चेहरा चमक जाता है
कभी अपना-सा, कभी पराया-सा
तरंगों को शूके बेक़रार कर जाता है

कोई तो है कहीं न कहीं न कहीं
जो हाथों की लकीरों में चमक जाता है
पलकों में यादें लिए होगा
कहीं तो कोई इंटर्जर करता है

एक नग्मा या भीगी सी ग़ज़ल
कोई अपने होंठों पे गुनगुनाता है
हो पास नहीं भी पर
अस्स-पास होने जा एहसास कराता है

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

1 Comment

  1. राही अंजाना - January 30, 2019, 8:54 pm

    बढ़िया

Leave a Reply