रिश्ते

रिश्ते ना गहरा सागर हैं
ना जल माटी की गागर हैं
वे तो बस बहता दरिया हैं
जीवन जीने का ज़रिया हैं

कुछ रिश्ते तुम्हारी क़िस्मत हैं,
कुछ रिश्ते तुम्हारी हसरत हैं,
पर हर रिश्ता रूख़ मोड़ता है,
कहीं, कभी, दम तोड़ता है।

कुछ रिश्तों ने तुम्हें राह दिया,
कुछ रिश्तों ने बस आह दिया,
कुछ रात से थे, पर सहर लगे,
कुछ अमृत थे, पर ज़हर लगे।

हर रिश्ते ने, भिगोया है,
कुछ सींचा है, कुछ बोया है,
न जाने कितने रिश्तों में,
भीगे, डूबे, हो किश्तों में।

पर जीवन के, अंतिम क्षण पर,
चंद बूँदों से, भीगे तन पर,
रिश्तों का रस छन जाएगा,
जब एक सूखा तन जाएगा।

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

2 Comments

  1. राही अंजाना - January 20, 2019, 12:55 pm

    वाह

  2. देवेश साखरे 'देव' - January 20, 2019, 3:57 pm

    लाजवाब

Leave a Reply