भिखारी कौन है…

यह टूटे हुए घरों की कहानी है
फुटपात पर बीती जिसकी जवानी है
भीख मे बस वह इंसानियत मांगते रहते
न जाने क्यों,आँखों में उनके आशाओं का पानी है

मांग कर जिंदगी जीना किसी की लाचारी है
लूटकर खाते वह आदरणीय भ्रष्टाचारी है
कभी ऊपरवाले से कभी खुद से तो कभी जहां से मांगते
आप ही बताओ कौन नहीं यहाँ भिखारी है

यह टूटे हुए घरों की कहानी है
फुटपात पर बीती जिसकी जवानी है……….

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

8 Comments

  1. Neha - March 25, 2019, 8:22 am

    Very nice

  2. देवेश साखरे 'देव' - March 25, 2019, 4:51 pm

    बहुत खूब

  3. Poonam singh - March 25, 2019, 6:11 pm

    Nice

  4. ashmita - March 27, 2019, 9:47 am

    Nice

  5. Ravi Bohra - March 28, 2019, 1:12 am

    Thank you Ashmita ji

Leave a Reply