क्यों रुलाता जा रहा है तू

ऐसे अपनो को क्यों सताता जा रहा है तू।
हर बार हमे क्यों रुलाता जा रहा है तू।।
“” “” “” “” “” “”
मेघो की आवाज सून ऐ काले बादल।
बिन बरसे आगे क्यों बढता जा रहा है तू।।
“” “” “” “” “” “”
जैसे की हमारे सपने हमारे अरमानो को।
इस कदर अब क्यों रौंदता जा रहा है तू।।
“” “” “” “” “” “”
तेरे तपन से हम हार कहा मानने वाले।
बेकसूर जमी को क्यों जलाता जा रहा है तू।।
“” “” “” “” “” “”
” रहस्य देवरिया “

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

4 Comments

  1. Anjali Gupta - June 6, 2019, 10:14 pm

    Bahut sundar kavit

  2. राही अंजाना - June 9, 2019, 6:13 pm

    सुंदर

Leave a Reply