Tu man ki ati bholi ma

तू मन की अति भोली मां,
दूजा नहीं तुझ सा प्यारा मां,
ऊपर वाले की सूरत में,
तू ही तू बस दिखती मां ,
मुझे जब नींद न आती ,
लोरी गा कर तू सुलाती मां,
मुझे जब भी भूख सताती,
झट से तू खाना दे देती,
मुझे जब कोई कष्ट होता ,
खुद बेचैन हो जाती मां ,
तू ही मंदिर तू ही मस्जिद,
तू ही है गुरुद्वारा मां ,
तेरे चरणों के सिवा
और कहीं न जाना मां ,
ऊपर वाले की सूरत में ,
तू ही तू बस दिखती मां|

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

2 Comments

  1. Chandani yadav - April 27, 2019, 8:10 am

    Wahhhhhh

Leave a Reply