Abla ab samjho nahi tum

अबला अब समझो नहीं तुम,
हूं मैं एक चिंगारी..

लड़कों से अब कम नहीं मैं,
हूं मैं सब पर भारी..

सेना क्षेत्र हो या हो पायलट…
डॉक्टर वकील की तो पूछो मत तुम,
हर मैदान में मैंने है बाजी मारी…|

फिर भी कुछ कुछ जगहो पर होता है मेरा अपमान,
उन अपमानो को रोकने की,
अब आ गई है बारी |

लडाई झगडे से होगा नही ये काम पूरा…
बुद्धि और चतुराई कौशल से जितनी है बाजी,

दहेज उत्पीड़न बाल विवाह तलाक चीरहरण को..
रोकने की अब आ गई है बारी|

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

8 Comments

  1. ashmita - April 6, 2019, 11:58 am

    Well said ma’am

  2. Antariksha Saha - April 6, 2019, 1:36 pm

    Awesome

  3. Chandani yadav - April 12, 2019, 7:01 am

    Beshak siss

Leave a Reply