Adamya sahas ki pahchan, Bharat ke ye vir jawan.

अदम्य साहस की पहचान,
भारत के ये वीर जवान ,
मातृभूमि की रक्षा के लिए,
जान हथेली पर रखकर,
ये कर देते जीवन कुर्बान,
ये है अभिनंदन जैसे वीर जवान ,
हमारे पूज्य है ये वीर जवान,
पर है कुछ लोग यहां के ,
जो दाव लगा देते हैं वतन का सम्मान ,
जो दे रहे हैं जाने अनजाने साथ पाक का,
यह वक्त नहीं है राजनीति का ,
यह वक्त नहीं है सबूत मांगने का,
यह वक्त है हौसला बढ़ाने का ,
जरा होश में आओ वतन के लोगों,
छोड़कर सब अपना स्वार्थ ,
अब मत करो वीरों का अपमान,
वतन मे रहकर करते हो वतन का ही अपमान |

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Leave a Reply